हद पार बेहद है, बेहद पार अक्षर,
अक्षर पार अक्षरातीत, जागिये इन घर ॥

Beyond this perishable, timed and limited world exists indestructible, eternal and infinite, abode of Akshar Brahma. Beyond Akshar is Aksharatit, Wake up souls in this home.

Mahamati on Value of Time

कै कोट राज वैकुंठ के, न आवे इतके खिन समान ।
सो जनम वृथा जात है, कोई चेतो सुबुध सुजान।।२

वैकुण्ठके करोड.ों राज (श्रेष्ठ) सुख भी मनुष्य जीवनके एक क्षणके समान नहीं हो सकते. ऐसा अमूल्य जीवन व्यर्थ ही व्यतीत हो रहा है. इसलिए हे बुद्धिमान, विचारशील आत्माओ ! सावधान हो जाओ.

The billions of years of raj (rule) of baikuntha (Abode of Lord Vishnu) cannot be compared with the moment of this world as equal. When whole life is going waste, O be conscious (alert) the intelligent and wise.

एक खिन न पाइए सिर साटें, कै मोहोरों पदमों लाख करोड ।
पल एक जाए इन समे की, कछू न आवे इन की जोड ।।३

लाखों, करोड.ों और पद्मों स्वर्ण मुद्राएँ खर्च की जाएँ अथवा अपने सिरको भी सर्मिपत कर दिया जाए तथापि मनुष्य जीवनका एक क्षण प्राप्त
नहीं हो सकता. इस मूल्यवान् अवसरके एक पलकी तुलनामें अन्य कोई वस्तु नहीं आ सकती.

The moment lost cannot be gained back even if you will to chop your head off or offer billions of gold coins. The every moment is very precious and nothing can be compared with it.

इन समे खिन को मोल नहीं, तो क्यों कहूं दिन मास वरस ।
सो जनम खोया झूठ बदले, पीउसों भई ना रंग रस ।।४

इस अवसरके एक क्षणका भी मूल्य आँका नहीं जा सकता फिर दिन, मास या वर्षकी तो बात ही क्या रही ? धनी मिलनके आनन्दमें मग्न न होकर ऐसे अमूल्य मनुष्य जीवनको संसारके नश्वर सुखके लिए तुम खो रहे हो.

The present moment is priceless how can I tell about day, month and year! And the one who lose whole life over the false and never united with the beloved Lord.